Best SPG commando in hindi-#1 एसपीजी कमांडो की कहानी

SPG commando in hindi:

भारत वीरों की धरती है, जहां सदियों से शौर्य गाथाएं लिखी जाती रही हैं। इसी वीर परंपरा को आगे बढ़ाते हुए, भारतीय सेना के एक विशिष्ट और कुलीन वर्ग के रूप में सामने आते हैं – विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) के कमांडो। ये वही अदम्य योद्धा हैं जो राष्ट्र के सर्वोच्च नेतृत्व की सुरक्षा का कठिनतम दायित्व निभाते हैं।

SPG kya hai?

SPG(Special Protection Group) जिसको “विशेष सुरक्षा समूह” के नाम से भी जाना जाता है, यह ये खास तरह की भारतीय सुरक्षा एजेंसी है जिसका एक मात्र काम है, भारत के प्रधानमंत्री एवं उनके परिवार को सुरक्षित रखना। इस महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी को सफल बनाए रखने के लिए ये सुरक्षा बल हमेशा प्रधानमंत्री के साथ ही रहते है, फिर चाहे वो प्रधानमंत्री आवास हो या फिर दुनिया की कोई भी जगह, यहाँ तक की जब भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Bear Grylls के साथ उनके शो “मैन VS वाइल्ड” पर गए थे तब भी उनके साथ ये सुरक्षा बल साथ मे ही थी।

एसपीजी की स्थापना कब हुई?

एसपीजी की स्थापना 1984 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुई थी। इस घटना ने राष्ट्र को झकझोर कर रख दिया था, और सरकार ने भविष्य में ऐसी किसी भी दुर्भाग्यपूर्ण घटना को रोकने के लिए एक अत्यंत कुशल सुरक्षा बल के गठन का निर्णय लिया। इस प्रकार, एसपीजी का जन्म हुआ, जो भारतीय सेना के सर्वश्रेष्ठ सैनिकों में से चुने गए जांबाजों का एक ऐसा समूह है जो किसी भी परिस्थिति में अपने कर्तव्य के प्रति अडिग रहते हैं।

Also Check:-

एसपीजी पर कितना खर्च होता है?

इतनी महत्वपूर्ण सेवा देने के बदले में इनको अच्छी ख़ासी तंख्वाह भी दी जाती है, एवं इनके खाने से लेकर के आने-जाने का सारा खर्च भी भारत सरकार उठाती है।

अभी SPG कमांडोज पर भारी भरकम खर्च किया जाता है, SPG कमांडोज जो की सिर्फ भारत के प्रधानमंत्री को सुरक्षा प्रदान करते हैं उन पर लगभग रोजाना 1 करोड़ 17 लाख खर्च किया जाता है। कुछ वर्षो पहले तक एसपीजी कमांडोज राहुल गांधी,सोनिया गांधी एवं प्रियंका गांधी वाड्रा को भी सुरक्षा मुहैया करते थे लेकिन एसपीजी एक्ट में संसोधन करके इन पर से SPG सुरक्षा हटा ली गयी है।उस वक़्त इन पर अनावस्यक अत्यधिक खर्च हो रहा था।

SPG से संबन्धित रोचक तथ्य:-

  • SPG का गठन 1984 में पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी की हत्या के बाद हुआ है
  • SPG पर रोजाना लगभग 1 करोड़ 17 लाख रुपए खर्च किए जाते है
  • SPG कमांडोज के बारे में आपको RTI पोर्टल पर भी कोई जानकारी नही मिलेगी
  • SPG अधिनियम में यह भी स्पष्ट है की जरूरत परने पर राज्य सरकारों को एसपीजी को सहायता करनी है
  • SPG कमांडोज में CRPF,BSF,SSB,CISF और भी अन्य फोर्सेस के सर्वश्रेष्ठ कैंडिडैट को चयनित किया जाता है
  • SPG को अपनी बहादुरी के लिए बहुत सारे पुरस्कारों से भी नवाजा गया है
  • SPG में अभी 3000 कमांडो है
  • SPG कमांडो की चयन प्रक्रिया बहुत ही कठिन होती है एवं इसके प्रशिक्षण को 1 प्रतिशत से भी कम उम्मीदवार पूरा कर पाते है

एसपीजी कमांडो बनने का सफर:

इस प्रतिष्ठित बल में शामिल होने का सफर बेहद कठिन और चुनौतीपूर्ण है। केवल भारतीय सेना के सर्वश्रेष्ठ जवान ही एसपीजी के कड़े प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए पात्र होते हैं। यह प्रशिक्षण शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से अत्यंत कठिन होता है, जिसमें युद्धक कलाओं, हथियार संचालन, आतंकवाद विरोधी रणनीति, निकट सुरक्षा तकनीकों और यहां तक कि प्राथमिक चिकित्सा का गहन ज्ञान शामिल होता है। एसपीजी कमांडो को किसी भी परिस्थिति में, चाहे वह जंगल, पहाड़, रेगिस्तान या शहरी क्षेत्र हो, अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। वे अत्याधुनिक हथियारों और उपकरणों से लैस होते हैं, और किसी भी खतरे का सामना करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।

एसपीजी कमांडो भारत के अभिनव रक्षक हैं। वे अदृश्य नायक हैं जो हर पल राष्ट्र की सुरक्षा के लिए समर्पित रहते हैं। उनका कर्तव्यनिष्ठ और साहसी रवैया हमें यह विश्वास दिलाता है कि हमारा राष्ट्र सुरक्षित हाथों में है।

एसपीजी कमांडो भारत के सबसे कुशल और प्रशिक्षित सैनिकों में से एक हैं। वे देश के गौरव हैं और किसी भी परिस्थिति में अपने देश के प्रधानमंत्री की रक्षा के लिए तैयार रहते हैं। हमें इन वीर सैनिकों पर गर्व होना चाहिए और उनके योगदान को हमेशा याद रखना चाहिए।

तो दोस्तों आज के इस लेख में हमने SPG commando in hindi इसके बारे में पूरे विस्तार से जाना, आपको हमारा आज का ये SPG commando in hindi लेख कैसा लगा हमे कमेंट में अवस्य बताइएगा। और इन शूरवीर कमांडोज़ के शौर्य को SHARE करके सभी लोगो को भी बताइये।

Leave a Comment